Dr.Sunil Kumar

Homoeopathic physician
Naturopathy,Acupressure,yoga,Herbal & Reiki Consultant For Chronic & Incurable disease

Blog

Rajiv dixit ayurveda episode 4 part 2

Posted by Dr.Sunil Kumar on January 16, 2012 at 9:20 AM

मित्रों आज हम वाग्भट जी के सूत्रों की आगे के चर्चा करेंगे --

1-खाने का समय हमेशा निर्धारित रखें इससे पाचन हमेशा एक सा होता है |

2-हमारे पेट में "जठराग्नि " होती है जो भोजन को पचाती है वो सबसे ज्यादा सूर्योदय के 2.30 घंटे तक प्रदीप्त रहती है इसलिए हो सके तो भोजन सुबह करें ,अन्यथा नाश्ता ही भोजन के सामान करें |

http://youtu.be/y3M67EEkZ0k

4-सुबह के किये हुए भोजन का एक एक कण शरीर के काम आता है क्योंकि उस समय पाचन सर्वश्रेष्ठ होता है |

5-नाश्ता सबसे भारी दोपहर का भोजन नाश्ते से हल्का रात का भोजन दिन के खाने से भी हल्का होना चाहिए |

6-भोजन सिर्फ पेट भरने के लिए ही नहीं खाना चाहिए बल्कि ,भोजन करने से मन भी तृप्त होना चाहिए ,क्योंकि मन तृप्त होता है तो penial gland इससे सक्रीय रहती है अनेक प्रकार के मानसिक रोगों से बच सकते हैं |

http://youtu.be/1tkLfL9VYv8

Categories: None

Post a Comment

Oops!

Oops, you forgot something.

Oops!

The words you entered did not match the given text. Please try again.

Already a member? Sign In

0 Comments

Recent Videos

1413 views - 0 comments
1426 views - 0 comments
1486 views - 0 comments
1706 views - 0 comments