Dr.Sunil Kumar

Homoeopathic physician
Naturopathy,Acupressure,yoga,Herbal & Reiki Consultant For Chronic & Incurable disease

Blog

Rajiv dixit ayurveda ........

Posted by Dr.Sunil Kumar on January 27, 2012 at 1:05 AM

योग एवं आयुर्वेद की श्रृंखला में गतांक से आगे ---

1- हमारे शरीर में वात-पित्त -कफ की अवस्था सम में रहती है तो हमारा शरीर तीनों स्तर ,चित्त -मन -शरीर पर स्वस्थ रहता है |

शरीर की अवस्था एवं उम्र के अनुसार हमें अपनी दिनचर्या निर्धारित करना चाहिए |

http://www.youtube.com/watch?v=vZqxTodOF6M&feature=related

2-जन्म से -13-14 वर्ष तक शरीर में कफ का प्रभाव अधिक रहता है |

14 वर्ष -60 वर्ष तक पित्त का प्रभाव अधिक रहता है |

60वर्ष से ऊपर वायु का प्रभाव रहता है |

3-कफ का स्वभाव भारी(गुरुत्व )होता है ,इसलिए इसके प्रभाव में नींद अधिक आती है ,और इसी कारण B.P.भीबढ़ा रहता है |सोने से B.P.कम होता है या सामान्य होता है |

http://www.youtube.com/watch?v=LiFpkq7iwR0&feature=related%E0%A4%95

4-छोटे बच्चों में कफ बहुत ज्यादा होता है इसलिए उन्हें ज्यादा से ज्यादा सोना चाहिए |कम नींद से उनके अंदर चिडचिडापन बढ़ेगा |कफ का प्रकोप अधिक होने से aggressiveness बढती है |

कफ के नियंत्रण से प्रेम एवं सद्भावना उत्पन्न होती है |

5-एक शोध के अनुसार America ,Europe जैसे देशों में बच्चे अधिक हिंसक होते हैं ,आपराधिक प्रव्रत्ति के होते है क्योंकि ये देश ठन्डे देश हैं और यहाँ बच्चों में कफ का प्रकोप अधिक होता है |

6- 4 वर्ष तक के बच्चों को कम से कम 15-16 घंटे सोना चाहिए ,इससे उनका विकास अधिक होता है |http://www.youtube.com/watch?v=vZqxTodOF6M&feature=related

Categories: None

Post a Comment

Oops!

Oops, you forgot something.

Oops!

The words you entered did not match the given text. Please try again.

Already a member? Sign In

0 Comments

Recent Videos

1403 views - 0 comments
1421 views - 0 comments
1474 views - 0 comments
1694 views - 0 comments