Dr.Sunil Kumar

Homoeopathic physician
Naturopathy,Acupressure,yoga,Herbal & Reiki Consultant For Chronic & Incurable disease

Blog

Rajiv dixit ayurveda episode 7 part 5

Posted by Dr.Sunil Kumar on January 31, 2012 at 2:05 AM

योग एवं आयुर्वेद की श्रृंखला में गतांक से आगे --

1-पित्त प्रकृति के लोगों को अधिक नहीं सोना चाहिए ,६ घंटे की नींद पर्याप्त है

2-पित्त प्रकृति के लोगों को दांत toothpaste से नहीं करना चाहिए बल्कि कसाय या कड़वे पदार्थ जैसे बबूल -नीम ,मदार ,अर्जुन की दातून से दांत साफ़ करने चाहिए |सर्दियों में अमरुद या जामुन की दातून अच्छी रहती है |

3-नीम की दातून लगातार यदि लगातार करते हों तो 3 महीने के करने के बाद कुछ दिन के लिए छोड़ दें ,इसके बाद फिर शुरू कर दें |

4-कुछ घरेलू दंतमंजन बनाने की विधि --

*त्रिफला चूर्ण +सेंधा नमक ,मिला कर दांत साफ़ करें

*तेल +नमक +हल्दी ,मिलकर दांत साफ़ करें ,इससे दांतों का पीलापन भी जाता है और दांत मज़बूत भी होते हैं |

*गाय के गोबर की राख+सेंध नमक+कपूर

http://www.youtube.com/watch?v=FE5ruRHLYIo&feature=related

5-पित्त रोगी व्यायाम पहले करें इसके बाद मालिश करें ,पसीना आने पर मालिश बंद कर दें |

6-वात रोगी मालिश पहले करें फिर व्यायाम करें |वात रोगियों को दौडना चाहिए ,तेज व्यायाम नहीं करना चाहिए |उनके लिए सूर्यनमस्कार सर्वोत्तम है |

7-60वर्ष के ऊपर के लोगों को व्यायाम नहीं करना चाहिए |मालिश ज़रूरी है -कान ,तलवे की ,सिर की |इस अवस्था में पसीना आने तक मालिश नहीं करना है 10-15 min की मालिश पर्याप्त है |

8-महिलाओं को forward bending ज़रूर करना चाहिए और हमेशा कमर से झुकें |Rajiv dixit ayurveda episode 7 part 5

Categories: None

Post a Comment

Oops!

Oops, you forgot something.

Oops!

The words you entered did not match the given text. Please try again.

Already a member? Sign In

0 Comments

Recent Videos

1422 views - 0 comments
1434 views - 0 comments
1501 views - 0 comments
1718 views - 0 comments